Viimased blogi sissekanded

Kanal : Rahul

 

12.01.2019

Kuch likha hai maine panno pe.

Kuch likha hai maine panno pe. Kuch likha hai maine panno pe,Panno pe dhul jami si hai. Tum aaye the tbse, auro ki,Is dil mai bari kami si hai. Dhul jami hai unpar bhi,Jo hote the, apne yaar musafir,Tum aaye the tb socha humne,Ab inki kya zarurat kaafir. #12:23 12.01.2019 kanalilt Rahul

23.10.2018

आईने में एक चेहरा दिखाई देता है|

आईने में एक चेहरा दिखाई देता है|आईने में एक चेहरा दिखाई देता है,देखने में कोई अपना दिखाई देता है | ख़ामोश है कुछ, थोड़ा परेशां दिखाई देता है,मेरे बारे मई कुछ सोचता दिकहि देता है | देखा थोड़ा गौर से तोह चिल्ला पारा है मुझपे,पूछता है की, कौन था वो जो गुमनाम सुनाई देता है?बीतें लम्हो मई क्यों धुंध रहा है खुद को?मुझको तुझमे तेरा एक कल दिखाई देता #10:20 23.10.2018 kanalilt Rahul

29.09.2018

देखा जो हमने सपना था.

देखा जो हमने सपना था,कुछ मेरा था वो, अपना था|तुम भी तो उस पल मेर #09:29 29.09.2018 kanalilt Rahul

16.07.2018

चलो आज फिर सुलझ जाते है.

चलो आज फिर सुलझ जाते है,फिर से खुद मे उलझ जाते है|की बीतें लम्हों मे गुज़र जाते है,चलो आज फिर सुलझ जाते है|दस्तक देते हो तुम अंजाने मे,और हम फिर से तुम मे उलझ जाते है,चलो आज फिर सुलझ जाते है|लोग आते है पूछने मुझसे हालत तुम्हारी,और हम उनके सवालों मै उलझ जाते है,चलो आज फिर सुलझ जाते है|ये जो देख रहे हो तुम उचईया मेरी,हम गिर कर अक्सर संभल जाते है,चलो आ #19:41 16.07.2018 kanalilt Rahul

...

#03:00 01.01.1970 kanalilt Rahul

 

Kajastused